राऊटर किसी भी नेटवर्क को सेट उप करने के लिए बहुत जरुरी उपकरण होता है |

Techadvisior के अनुसार आप एक राऊटर से 250 डिवाइस कनेक्ट कर सकते है।

राऊटर काफी तेज़ इंटरनेट स्पीड देता है इसलिए इसको घरो में और दफ्तरों में काफी जायदा इस्तेमाल किआ जाता है। पर यदि आप यह नहीं जानते की router kya hai तो आज आपको राऊटर के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी।

आज इस लेख में हम यह देखेंगे की राऊटर क्या है, कैसे काम करता है और वायरलेस राऊटर घर पर कैसे सेट उप करे। तो चलिए शुरू करते है।


राऊटर क्या है – Router Kya Hai

राउटर एक ऐसा उपकरण है जो इंटरनेट से जुड़ता है और आपके नेटवर्क के अन्य उपकरणों को भी इससे कनेक्ट करने की अनुमति देता है। यह किसी भी घर या कार्यालय नेटवर्क का एक अभिन्न अंग है। राउटर हमारे इंटरनेट कनेक्शन की रीढ़ हैं।

राउटर दो नेटवर्क को एक साथ जोड़ता है। यह कंप्यूटर नेटवर्क को डेटा और उपकरणों को साझा करने में सक्षम बनाता है, और इसे बाहरी दुनिया से अनधिकृत पहुंच के खिलाफ फ़ायरवॉल के रूप में उपयोग किया जा सकता है। राउटर को गेटवे, फायरवॉल या पैकेट फिल्टर भी कहा जाता है।


राउटर की आवश्यकता क्यों है?

राउटर एक ऐसा उपकरण है जो उपयोगकर्ता को विभिन्न उपकरणों से इंटरनेट का उपयोग करने की अनुमति देता है। यह नेटवर्क पर उपकरणों के बीच डेटा पैकेट भेजने और प्राप्त करने के लिए भी जिम्मेदार है। एक ही समय में इंटरनेट का उपयोग करने वाले कई लोगों के साथ किसी भी घर या कार्यालय की सेटिंग के लिए राउटर आवश्यक हैं।

राउटर का उपयोग करने के लाभों में शामिल हैं:

  • अधिकांश वाईफाई एक्सटेंडर की तुलना में तेज कनेक्शन गति
  • सुरक्षा सुविधाएँ जैसे फायरवॉल और पासवर्ड सुरक्षा
  • यह नियंत्रित करने की क्षमता कि कौन से उपकरण इससे जुड़ सकते हैं
  • एक से अधिक वाईफाई नेटवर्क को एक साथ जोड़ना

कंप्यूटर नेटवर्क में राऊटर के उपयोग – Computer Network Me router Ke Pryog

राउटर ऐसे उपकरण हैं जो आपको घर पर अपने वायरलेस नेटवर्क का विस्तार करने की अनुमति देते हैं। वे आपको मोबाइल फोन, लैपटॉप और टैबलेट जैसे विभिन्न उपकरणों से इंटरनेट से कनेक्ट करने की अनुमति भी देते हैं।

राउटर एक ऐसा उपकरण है जो आपको वायरलेस सिग्नल प्रसारित करके आपके घर में किसी भी डिवाइस से इंटरनेट एक्सेस करने की अनुमति देता है। यह संकेत तब आपके घर के अन्य सभी नेटवर्कों द्वारा उठाया जाता है।

राउटर OSI मॉडल के लेयर 3 पर काम करते हैं और नेटवर्क को एक साथ जोड़ते हैं। राउटर एक नेटवर्क से दूसरे नेटवर्क में डेटा के पैकेट भेजकर इंटरनेटवर्क बनाते हैं।


राउटर कैसे काम करता है – Router Kaise Kaam Karta Hai

राउटर एक ऐसा उपकरण है जो कंप्यूटर और इंटरनेट के बीच डेटा ट्रैफिक को मैनेज करता है। यह एक हार्डवेयर उपकरण है जो आपके घर या कार्यालय नेटवर्क को वाई-फाई और वायर्ड कनेक्शन प्रदान करता है।

राउटर आपके घर या कार्यालय नेटवर्क में सबसे महत्वपूर्ण उपकरणों में से एक है। यह वही है जो आपको इंटरनेट से और आपके अन्य सभी उपकरणों को एक दूसरे से जोड़ता है।

कई अलग-अलग प्रकार के रूटिंग प्रोटोकॉल हैं जिनका उपयोग पैकेट को रूट करने के लिए किया जा सकता है। उनमें से सबसे लोकप्रिय प्रोटोकॉल रूटिंग इंफॉर्मेशन प्रोटोकॉल (RIP) है।

RIP एक डिस्टेंस-वेक्टर प्रोटोकॉल है जो हॉप काउंट को अपने मीट्रिक के रूप में उपयोग करता है। यह हर 30 सेकंड में अपने सभी पड़ोसियों को अपनी संपूर्ण रूटिंग टेबल प्रसारित करके काम करता है। आरआईपी प्रोटोकॉल तब इन प्रसारणों में जानकारी का उपयोग अपनी रूटिंग टेबल को अपडेट करने और अपने सभी पड़ोसियों को हर 30 सेकंड में नए अपडेट भेजने के लिए करेगा।


राऊटर के अवयव – Components Of Router

राऊटर को काम करवाने में काफी चीज़ो का योग्यदान होता है और उन्ही में से कुछ अवयव निम्नलिखित है।

  1. सेंट्रल प्रोसेस यूनिट
  2. फ़्लैश मेमोरी
  3. नॉन वोलेटाइल रैम
  4. रैम
  5. नेटवर्क इंटरफेसेस
  6. कंसोल

आईये इन सभी के बारे में विस्तार में जानते है!


#1. सेन्ट्रल प्रॉसेसिंग यूनिट (सीपीयू)

सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (सीपीयू) कंप्यूटर का दिमाग है और अधिकांश ऑपरेशन करता है। सीपीयू कंप्यूटर में अन्य घटकों के बीच डेटा प्रवाह को नियंत्रित करता है और प्रोग्राम चलाने के लिए आवश्यक सभी कार्यों को संभालता है।


#2. फ़्लैश मेमोरी

राउटर डेटा और प्रोग्राम को स्टोर करने के लिए फ्लैश मेमोरी का उपयोग करते हैं। यह राउटर को अधिक कुशलता से काम करने और उपयोगकर्ता के लिए बेहतर सेवा प्रदान करने की अनुमति देता है।

फ्लैश मेमोरी एक प्रकार की गैर-वाष्पशील मेमोरी है जिसे विद्युत रूप से मिटाया जा सकता है और पुन: प्रोग्राम किया जा सकता है। इसका उपयोग राउटर में डेटा स्टोर करने के लिए किया जाता है, जैसे ऑपरेटिंग सिस्टम और कॉन्फ़िगरेशन फ़ाइलें, और सॉफ़्टवेयर स्टोर करने के लिए, जैसे रूटिंग प्रोटोकॉल।

राउटर की फ्लैश मेमोरी का उपयोग डेटा और प्रोग्राम को स्टोर करने के लिए किया जाता है, जिसकी उसे इसके संचालन के लिए आवश्यकता होती है। इसमें ऑपरेटिंग सिस्टम, रूटिंग प्रोटोकॉल, या अन्य कॉन्फ़िगरेशन जैसी चीज़ें शामिल हैं; हम इन चीजों को “सिस्टम सॉफ्टवेयर” कहते हैं।


#3. नॉन वोलेटाइल रैम

राउटर के विभिन्न घटक होते हैं जो रूटिंग फ़ंक्शन के लिए जिम्मेदार होते हैं। नॉन-वोलेटाइल रैम एक प्रकार की मेमोरी होती है जो पावर न होने पर भी डेटा को स्टोर करती है।

गैर-वाष्पशील रैम (Non-volatile RAM) के सबसे सामान्य प्रकार स्टेटिक रैंडम एक्सेस मेमोरी (एसआरएएम) और डायनेमिक रैंडम एक्सेस मेमोरी (डीआरएएम) हैं।


#4. रैम

रैंडम-एक्सेस मेमोरी, या रैम, एक प्रकार की मेमोरी है जिसे रैंडम तरीके से एक्सेस किया जा सकता है; मेमोरी के किसी भी बाइट को पिछले बाइट्स को छुए बिना एक्सेस किया जा सकता है।


#5. नेटवर्क इंटरफेसेस

राउटर एक ऐसा उपकरण है जो दो या दो से अधिक नेटवर्क को जोड़ता है, आमतौर पर एक नेटवर्क दूसरे से। राउटर का उपयोग इंटरनेट एक्सेस प्रदान करने के साथ-साथ नेटवर्क को एक साथ जोड़ने के लिए किया जाता है। राउटर के घटक निम्नलिखित हैं:

नेटवर्क इंटरफेस – ये भौतिक कनेक्शन हैं जो राउटर को नेटवर्क पर अन्य सिस्टम के साथ संचार करने की अनुमति देते हैं।

प्रोसेसर – यह वह है जो आपके राउटर में आने और बाहर आने वाले सभी डेटा को प्रोसेस करता है। यह यह भी नियंत्रित करता है कि प्रत्येक नेटवर्क इंटरफ़ेस पोर्ट को कितनी बिजली की आपूर्ति की जाती है।

फ्लैश मेमोरी – यह गैर-वाष्पशील मेमोरी चिप्स से बनी होती है जो सूचनाओं को तब भी संग्रहीत कर सकती है जब इसके माध्यम से कोई शक्ति प्रवाहित न हो। फ्लैश मेमोरी आपके राउटर के लिए सॉफ्टवेयर और कॉन्फ़िगरेशन सेटिंग्स को स्टोर करती है।


#6. कंसोल

राउटर एक ऐसा उपकरण है जो नेटवर्क के बीच नेटवर्क पैकेट को फॉरवर्ड करता है। राउटर का सबसे आम उपयोग किसी संगठन या घर में नेटवर्क तक इंटरनेट एक्सेस प्रदान करना है। राउटर इंटरनेट से डेटा पैकेट प्राप्त करता है, गंतव्य पता पढ़ता है, और पैकेट को उसके गंतव्य तक अग्रेषित करता है।

राउटर पर कंसोल पोर्ट का उपयोग विभिन्न उद्देश्यों के लिए डिवाइस को कॉन्फ़िगर करने के लिए किया जाता है। इसका उपयोग टेलनेट सत्र, सीरियल कंसोल कनेक्शन या अन्य उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है।


राऊटर कितने प्रकार के होते है – Types of Routers In Hindi

राऊटर के विभिन्न प्रकार निम्नलिखित है:


#1. ब्रॉडबैंड राऊटर (Broadband Router)

ब्रॉडबैंड राउटर का इस्तेमाल आमतौर पर क्लाइंट्स या होम ऑफिस को इंटरनेट से जोड़ने के लिए किया जाता है। ब्रॉडबैंड राउटर से उपकरणों को इंटरनेट से जोड़ने को अक्सर ब्रॉडबैंड कहा जाता है। ब्रॉडबैंड राउटर के कई ब्रांड हैं, लेकिन उनमें से अधिकांश में नेटवर्क कनेक्शन के लिए ईथरनेट पोर्ट हैं।


#2. वायरलेस राऊटर (Wireless Router)

एक वायरलेस राउटर आपको 300 फीट तक की रेंज के साथ अपना खुद का नेटवर्क बनाने की अनुमति देता है। ये वायरलेस कनेक्शन आमतौर पर पारंपरिक कनेक्शन की तरह तेज़ नहीं होते हैं, लेकिन इन्हें स्थापित करना बहुत आसान होता है।


#3. एज राऊटर (Edge Router)

नेटवर्क को इंटरनेट से जोड़ने के लिए एज राउटर का उपयोग किया जाता है। उन्हें एक ISP के किनारे पर रखा जाता है और उनका इंटरनेट से सीधा संबंध होता है। एज राउटर आईएसपी में जाने और प्रवेश करने वाले सभी ट्रैफ़िक के साथ-साथ किसी अन्य नेटवर्क के लिए नियत किसी भी ट्रैफ़िक के लिए ज़िम्मेदार है।

एज राउटर को बाहरी प्रोटोकॉल जैसे बीजीपी (बॉर्डर गेटवे प्रोटोकॉल) का उपयोग करके कॉन्फ़िगर किया जा सकता है। इस प्रोटोकॉल का उपयोग यह निर्धारित करने के लिए किया जाता है कि आईएसपी छोड़ने या प्रवेश करने पर कौन सा मार्ग डेटा लेना चाहिए।


#4. सब्सक्राइबर एज राऊटर (Subscriber Edge Router)

सब्सक्राइबर एज राउटर एक ऐसा उपकरण है जो बाहरी बॉर्डर गेटवे प्रोटोकॉल (बीजीपी) नेटवर्क से जुड़ता है। यह आम तौर पर ग्राहक के नेटवर्क में अंतिम उपकरण होता है, और यह पैकेट को ग्राहक के नेटवर्क में और बाहर रूट करने के लिए जिम्मेदार होता है।


#5. इंटर प्रोवाइडर बॉर्डर राऊटर (Inter Provider Border Router)

IP BR (इंटर प्रोवाइडर बॉर्डर राऊटर)का उपयोग ISP को आपस में जोड़ने के लिए किया जाता है। उदाहरण के तौर पर, एयरटेल का रिलायंस से कनेक्शन है और वोडाफोन का जियो के साथ कनेक्शन है। यह बीजीपी के माध्यम से किया जाता है।


#6. कोर राऊटर (Core Router)

जो राउटर लैन नेटवर्क के बैकबोन की तरह काम करता है उसे कोर राउटर कहा जाता है।

एक कोर राउटर को नेटवर्क के अन्य सभी राउटरों के लिए एक हब के रूप में देखा जा सकता है। इस उपकरण के लिए बड़ी मात्रा में डेटा को संभालने में सक्षम होना महत्वपूर्ण है, जिसका अर्थ है कि इसमें उच्च बैंडविड्थ और प्रसंस्करण शक्ति होनी चाहिए। कोर राउटर को आवाज, वीडियो और डेटा जैसे कई अलग-अलग प्रकार के ट्रैफ़िक को प्रबंधित करने में सक्षम होना चाहिए।

कोर राउटर आमतौर पर लैन नेटवर्क के केंद्र में पाए जाते हैं जहां वे नेटवर्क पर अन्य सभी उपकरणों के बीच मध्यस्थ के रूप में कार्य कर सकते हैं। उनका उपयोग अक्सर एक से अधिक सर्वर या क्लाइंट वाले नेटवर्क में किया जाता है क्योंकि वे ट्रैफ़िक को प्रबंधित करने में मदद कर सकते हैं और सिस्टम के अन्य भागों में समस्या होने पर भी चीजों को सुचारू रूप से चला सकते हैं।


आज आपने “Router Kya Hai” के बारे में क्या सीखा

राउटर एक ऐसा उपकरण है जिसका उपयोग घर या कार्यालय में विभिन्न नेटवर्क को जोड़ने के लिए किया जाता है। इस उपकरण का उपयोग वायरलेस नेटवर्क बनाने, इंटरनेट की गति बढ़ाने और फ़ायरवॉल के रूप में भी किया जा सकता है।

मुझे उम्मीद है आपको अच्छे से समझ में आ गया है की राऊटर क्या है और यह कैसे काम करता है |


Router Kya Hai से सम्बन्धित कुछ प्रश्न के उत्तर

वायरलेस राऊटर कैसे सेट करे?

वायरलेस राउटर सेट करने के लिए, आपको दो चीजों की आवश्यकता होती है: एक इंटरनेट कनेक्शन और एक पावर स्रोत। अपना वायरलेस राउटर सेट करते समय सबसे पहले आपको इसे प्लग इन करना होगा ताकि इसे आउटलेट या एक्सटेंशन कॉर्ड से पावर मिल सके। इसके बाद, आपको ईथरनेट केबल या वाई-फाई कनेक्शन का उपयोग करके राउटर के वैन पोर्ट (आमतौर पर “इंटरनेट” लेबल) को अपने मॉडेम से कनेक्ट करना होगा। यह अनुमति देगा

नया राउटर खरीदते समय मुझे क्या विचार करना चाहिए?

वायरलेस राउटर किसी भी होम नेटवर्क की रीढ़ होते हैं। वे केंद्रीय केंद्र हैं जिनसे सभी उपकरण जुड़ते हैं। नया राउटर खरीदते समय सबसे पहले विचार करने वाली बात यह है कि इसमें किस प्रकार का कनेक्शन है।

दो प्रकार के कनेक्शन हैं, वायर्ड और वायरलेस। वायर्ड कनेक्शन अधिक स्थिर होते हैं लेकिन आपके पूरे घर या कार्यालय में चलने के लिए ईथरनेट केबल की आवश्यकता होती है, जबकि वायरलेस कनेक्शन आपके घर या कार्यालय में कहीं भी एक पावर आउटलेट के साथ स्थापित किया जा सकता है।

अगला विचार यह है कि आपको अपने इंटरनेट सेवा प्रदाता (ISP) के लिए किस प्रकार के कनेक्शन की आवश्यकता होगी। यदि आपके पास DSL इंटरनेट सेवा है, तो आपको DSL मॉडेम और राउटर कॉम्बो यूनिट की आवश्यकता है। यदि आपके पास केबल इंटरनेट सेवा है, तो आपको केबल मॉडेम और राउटर कॉम्बो यूनिट की आवश्यकता है।

IP BR का उद्देश्य क्या है?

P BR का मुख्य उद्देश्य दो प्रदाताओं के बीच एक नेटवर्क कनेक्शन स्थापित करना है ताकि वे एक दूसरे के साथ संवाद कर सकें। दिए गए उदाहरण के मामले में, रिलायंस और एयरटेल के बीच एक नेटवर्क कनेक्शन होना चाहिए ताकि वे एक दूसरे के साथ संवाद कर सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.